हिमाचल में हर साल 3000 सड़क दुर्घटनाएं, इनमें 95 फीसदी में ड्राइवर की गलती

हिमाचल जैसे छोटे राज्य में प्रतिवर्ष औसतन 3000 सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, जिनमें लगभग 1200 लोगों की मृत्यु होती है तथा लगभग 5000 के करीब लोग घायल होते हैं। प्रदेश में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में लगभग 95 प्रतिशत दुर्घटनाएं मानवीय भूलों के कारण होती हैं। प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं का मुख्य कारण तेज गति से वाहन चलाना, खतरनाक तरीके व लापरवाही से वाहन चलाना तथा गलत तरीके से ओवरटेक करना अथवा लैंड बदलना, गलत तरीके से वाहन मोड़ना व नशा करके वाहन चलाना शामिल है।

परिवहन मंत्री विक्रम सिंह ने हिमाचल प्रदेश लोक प्रशासन संस्थान मशोबरा में परिवहन विभाग द्वारा सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान में लोक समूहों की भूमिका पर आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन अवसर पर यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में लगभग 19 लाख वाहन पंजीकृत हैं, जिनमें 10 लाख से अधिक संख्या दो पहिया वाहनों की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में शामिल वाहनों में सबसे अधिक संख्या हल्के मोटर वाहनों, जिसमें कार जीप आदि शामिल है इसके पश्चात दो पहिया वाहनों की संख्या भी इसमें शामिल है। उन्होंने कहा कि यातायात नियमों का पालन किया जाए तो सड़क दुर्घटनाओं को काफी हद तक रोका जा सकता है। सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली अमूल्य मानव जीवन की हानि एवं विकलांगता का अनुभव दुर्घटना पीड़ित के परिवार के सदस्य ही समझ सकते हैं।
उन्होंने बताया कि वर्ष 2019 में परिवहन निदेशालय शिमला में माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा सड़क सुरक्षा पर गठित समिति के दिशा-निर्देशों के अनुसार सड़क सुरक्षा प्रकोष्ठ का गठन किया गया है, जिसके अंतर्गत सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए विभिन्न कार्य किए जा रहे हैं। उन्होेंने बताया कि इसी कड़ी में सड़क सुरक्षा प्रकोष्ठ, परिवहन विभाग द्वारा लोेगों को पंचायत व वार्ड स्तर तक सड़क सुरक्षा नियमों एवं कानूनों की जानकारी प्रदान करने के लिए प्रचार सामग्री प्रकाशित की गई है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की कल्याणकारी नीतियों व अन्य कार्यक्रमों को समाज तक पहुंचाने में लोक समूह की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह विचार आज उद्योग,
इस मौके पर निदेशक परिवहन अनुपम कश्यप ने परिवहन विभाग द्वारा प्रदेश में परिवहन व्यवस्था को सुचारू बनाए रखने के लिए किए जा रहे प्रयासों तथा दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए विभिन्न कार्यों की जानकारी दी। अतिरिक्त आयुक्त परिवहन हिमस नेगी ने सड़क सुरक्षा गतिविधियों के संबंध में जानकारीयुक्त प्रेजंेटेशन प्रदान की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.