भाजपा सरकार बताए चार सालों में अपने दृष्टिपत्र के कितने वायदों को पूरा किया: राठौर

शिमला

कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश भाजपा सरकार से पूछा है कि वह सार्वजनिक तौर पर यह बताए कि गत चार साल के अपने इस कार्यकाल उसने अपने दृष्टिपत्र के कितने वायदों को पूरा किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने लोगों से किया कोई भी वायदा पूरा नही किया।उन्होंने कहा कि अब चुनावी साल शुरू होते ही मुख्यमंत्री लोकलुभावनी घोषणाएं कर लोगों को भर्मित करने का पूरा प्रयास कर रहें है,क्योंकि सरकार का खजाना अब पूरी तरह से खाली हो चुका है और प्रदेश 65 हजार करोड़ के कर्ज के बोझ में चला गया है।

आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकार वार्ता को सम्बोधित करते हुए राठौर ने मुख्यमंत्री जयराम द्वारा पूर्ण राज्यत्व दिवस पर की गई घोषणाओं को पूरी तरह चुनावी घोषणाएं करार देते हुए कहा कि सरकार कर्मचारी व जन हितेषी होने का ढोंग रच रही है।उन्होंने कहा कि प्रदेश में हुए चार उप चुनावों में भाजपा को मिली करारी हार के बाद देश मे बढ़ते पेट्रोल, डीज़ल के मूल्यों में केंद्र सरकार को मजबूरी में इसके दामों में कटौती करनी पड़ी।इसी दौरान एक साल से अधिक समय तक चले किसान आंदोलन को शांत करने के लिए तीन काले कृषि कानून भी वापस लेने पड़े।उन्होंने कहा कि इन चुनाव परिणामों के बाद प्रदेश सरकार की आंखे भी खुली और अब वह कर्मचारियों को लुभाने में जुट गई है।
राठौर ने कहा कि कर्मचारी पिछले चार सालों से अपनी मांगों को लेकर संघर्षरत थे।कांग्रेस भी समय समय पर सरकार के समक्ष उनकी मांगों को उठाती रही।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की घोषणाओं में विसंगतियां व भ्रांतियां है जिन्हें दूर किया जाना चाहिए।उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के साथ प्रदेश के लोगों की सभी मांगो को पूरा किया जाना चाहिए।

सरकार की मुफ्त बिजली देने की घोषणा पर उठाए

राठौर ने कहा कि सरकार ने 60 यूनिट तक बिजली निशुल्क देने की जो घोषणा की है उसे 100 यूनिट किया जाना चाहिए, क्योंकि प्रदेश बिजली उत्पादन प्रदेश है।उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की नीति एक हाथ से ले,दूसरे से ले कि रही है,इसलिए बिजली मीटरों की पूरी जांच होनी,मीटर रेंट जो कई सालों से बसूला जा रहा है उसे भी खत्म किया जाना चाहिए और सभी प्रकार के सरचार्ज भी खत्म किये जाने चाहिए।

राठौर ने कहा कि कोरोना काल में सरकार ने किसी भी वर्ग को आज दिन तक कोई राहत नही दी है।उन्होंने कहा कि किसानों बागवानों को न तो खाद ही मिल रही है न कीट नाशक व फफूंद नाशक ही। प्रदेश में पर्यटन व्यवसाय से जुड़े होटल व बस टेक्सी ऑपरेटर आज बहुत बुरे दौर से गुजर रहे है।उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के समय पहाड़ी राज्यों के विकास के लिए विशेष आर्थिक मदद मिलती थी,जो अब एनडीए सरकार के समय बंद हो गई है।
कुलदीप राठौर ने कहा कि प्रदेश में डबल इंजन सरकार का दावा करने वाली भाजपा का इंजन फेल हो चुका है।केंद्र ने प्रदेश की एक भी पैसे की कोई मदद नही की।उन्होंने कहा कि भाजपा कभी भी बढ़ती महंगाई व बेरोजगारी पर कोई बात नही करती।उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में पड़ोसी राज्यों की अपेक्षा प्रदेश में बनने वाला सीमेंट मंहगा मिल रहा है।उन्होंने कहा कि बेरोजगारी दूर करने के लिये सरकार के पास कोई नीति ही नही है।

राठौर ने प्रदेश में उचित मूल्य की दुकानों से मिलने वाले सस्ते राशन की गुणवत्ता पर सवाल उठाते हुए कहा कि दाल के पैकेट में मरे हुए चूहे का मिलना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है।यह पूरी तरह लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ है और इसकी जांच होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.