विधायकों के सुझावों को वित्तीय वर्ष 2022-23 के बजट में सर्वोच्च प्राथमिकता देंः मुख्यमंत्री

शिमला

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां सायंकालीन सत्र में ऊना, हमीरपुर, कुल्लू और सिरमौर जिलों के विधायकों के साथ बजट 2022-23 की प्राथमिकताओं को अंतिम रूप देने के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि विधायकों द्वारा दिए गए सुझावों को अगले वित्तीय वर्ष के बजट में सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी के बावजूद राज्य सरकार यह सुनिश्चित करने में सफल रही है कि विकास की गति निर्बाध रूप से जारी रहे। उन्होंने कहा कि क्योंकि महामारी अभी खत्म नहीं हुई है, इसलिए राज्य सरकार ने अधिकांश अधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठकें करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास-सबका प्रयास के मूल मंत्र को समक्ष रखकर कार्य कर रही है। राज्य सरकार प्रदेश में स्वास्थ्य क्षेत्र में आधारभूत संरचना को मजबूत करने पर बल दे रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में पहले केवल दो ऑक्सीजन संयंत्र थे, जबकि आज प्रदेश के विभिन्न भागों में 48 ऑक्सीजन संयंत्र हैं।

जय राम ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री शगुन योजना के तहत बीपीएल परिवारों की बेटियों को उनकी शादी के समय 31,000 रुपये प्रदान किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि अवैध खनन पर रोक लगाने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाएं और खनन चौकियां अधिक प्रभावी हों।

मुख्यमंत्री ने सभी विधायकों का उनके बहुमूल्य सुझावों के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि सात जिलों के 30 विधायकों ने आज की इस बैठक में अपने सुझाव दिए। उन्होंने अधिकारियों को वास्तविक स्थिति को न छुपाने तथा विधायकों की प्राथमिकताओं को सर्वोच्च महत्त्व देने के निर्देश दिए और कहा कि निर्माण कार्यों में गुणवत्ता से कोई समझौता स्वीकार्य नहीं होगा।

जिला ऊना

विधायक चिंतपूर्णी बलबीर सिंह ने कहा कि विधानसभा क्षेत्र को जल जीवन मिशन के अन्तर्गत एक जल शक्ति मण्डल प्रदान किया गया है, जिसने क्षेत्रवासियों को पेयजल और सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि कस्बे के सौंदर्यीकरण के लिए चिन्तपूर्णी में कुछ दुकानों का अधिग्रहण आवश्यक है। उन्होंने विधानसभा क्षेत्र के ऊंचाई वाले क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए मुख्यमंत्री से आग्रह किया। उन्होंने अम्ब को अधिसूचित क्षेत्र कमेटी बनाने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।

विधायक गगरेट राजेश ठाकुर ने कहा कि किसानों को लाभान्वित करने के लिए क्षेत्र में अधिक ट्यूबवेल लगाए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि नाबार्ड के तहत ट्यूब वेल लगाने के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार की जानी चाहिए।

विधायक हरोली मुकेश अग्निहोत्री ने अपने विधानसभा क्षेत्र में विभिन्न परियोजनाओं की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने में शीघ्रता लाने का आग्रह किया। उन्होंने क्षेत्र में अवैध खनन पर रोक लगाने की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने चिन्तपूर्णी और हरोली विधानसभा क्षेत्रों को जोड़ने के लिए पुल के निर्माण की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि हरोली विधानसभा क्षेत्र को शिवा परियोजना के अन्तर्गत अधिक उपयुक्त धनराशि प्रदान की जानी चाहिए।

विधायक ऊना सतपाल रायजदा ने कहा कि विधायकों को विधायक प्राथमिकताओं वाले शिलान्यास और लोकार्पण कार्यक्रमों में आमन्त्रित किया जाना चाहिए।

जिला हमीरपुर

विधायक भोरंज कमलेश कुमारी ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार के चार वर्षों के कार्यकाल में भोरंज क्षेत्र का चहुंमुखी विकास सुनिश्चित हुआ है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के लोगों को सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए भोरंज अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सक उपलब्ध करवाने के अलावा ऑक्सीजन संयंत्र भी स्थापित किया जाना चाहिए। उन्होंने मुख्यमंत्री से भोरंज में अग्निशमन केन्द्र खोलने का भी आग्रह किया।

विधायक सुजानपुर राजेन्द्र् राणा ने कहा कि सुजानपुर में टाउन हॉल के निर्माण कार्य में तेजी लाई जानी चाहिए तथा नागरिक अस्पताल सुजानपुर में विशेषज्ञ चिकित्सक उपलब्ध करवाये जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि 33 के0वी0 उपकेन्द्र जिसकी आधारशिला पूर्व राज्य सरकार ने रखी थी, का कार्य शीध्र ही आरम्भ किया जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री से अपने क्षेत्र में राजकीय महाविद्यालय तथा टौणी देवी क्षेत्र में उपमण्डलाधिकारी (नागरिक) कार्यालय खोलने का भी आग्रह किया।

हमीरपुर से विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र के अस्पतालों में पर्याप्त स्टाफ उपलब्ध करवाया जाना चाहिए।

विधायक बड़सर इन्द्रदत्त लखनपाल ने कहा कि दियोटसिद्ध में रज्जुमार्ग का निर्माण किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बिझड़ी के भवन निर्माण का कार्य शीघ्र पूर्ण किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के आयुर्वेदिक औषधालय में चिकित्सकों के उपयुक्त पदों का प्रावधान किया जाना चाहिए।

जिला कुल्लू

कुल्लू से विधायक सुन्दर सिंह ठाकुर ने कहा कि बिजली महादेव रज्जुमार्ग का कार्य शीघ्र प्रारम्भ किया जाए ताकि क्षेत्र में पर्यटन विकास को गति मिल सके। उन्होंने कहा कि शाड़नी-पीणी सड़क का कार्य शीघ्र पूरा किया जाना चाहिए।

बंजार के विधायक सुरेन्द्र शौरी ने कहा कि बन्जार अस्पताल और आयुर्वेदिक अस्पताल बजौरा के कार्य को गति प्रदान की जाए। उन्होंने कहा कि डीएफओ (वन्य जीव) को शमशी से लारजी लाया जाए। उन्होंने कहा कि सोझा और तीर्थन घाटी को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जाना चाहिए।

आनी के विधायक किशोरी लाल ने कहा कि गत चार वर्षों में आनी विधानसभा क्षेत्र में अभूतपूर्व विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि सड़कों की लम्बित विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) प्राथमिकता के आधार पर तैयार की जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री द्वारा हाल ही में उनके विधानसभा क्षेत्र के दौरे के दौरान अनेक योजनाएं समर्पित करने के लिए उनका आभार व्यक्त किया।

जिला सिरमौर

नाहन से विधायक डॉ. राजीव बिंदल ने कहा कि मुख्यमंत्री की सभी घोषणाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए ताकि परियोजनाओं को शीघ्र पूर्ण किया जा सके। उन्होंने मुख्यमंत्री से नाहन कस्बे में मल-निकासी सुविधा प्रदान करने का भी आग्रह किया। उन्होंने डॉ. यशवंत सिंह परमार राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान नाहन के भवन के निर्माण कार्य में तेजी लाने की आवश्यकता पर भी बल दिया।

पच्छाद से विधायक रीना कश्यप ने नागरिक अस्पताल सराहां में ऑक्सीजन संयंत्र प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र में सराहां और राजगढ़ दो चिकित्सा खण्ड हैं। उन्होंने कहा कि नारग में एक आईटीआई और राजगढ़ में एक अग्निशमन केन्द्र खोला जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिरगुल देवता मन्दिर को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाना चाहिए।

श्री रेणुका जी से विधायक विनय कुमार ने लगभग 7,000 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले रेणुका डैम परियोजना के लिए मुख्यमंत्री को बधाई दी। इस डैम की आधारशिला हाल ही में प्रधानमंत्री ने रखी थी। उन्होंने कहा कि इस परियोजना से होने वाले सामाजिक प्रभाव का उचित आकलन किया जाना चाहिए ताकि इस डैम के विस्थापितों के पुनर्वास में कोई कठिनाई न हो। उन्होंने कहा कि रेणुका चिड़ियाघर में बाघों का जोड़ा लाया जाना चाहिए और चिड़ियाघर में दो बैटरी कारों की मुरम्मत की जानी चाहिए और यदि आवश्यक हो तो बदल देनी चाहिए।

शिलाई से विधायक हर्षवर्धन चौहान ने कहा कि प्रभावी प्रशासन वर्तमान की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र में महाविद्यालयों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों में पर्याप्त स्टाफ उपलब्ध करवाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पावंटा-शिलाई सड़क के कार्य में तेजी लाई जानी चाहिए क्योंकि यह सड़क क्षेत्र के लोगों की जीवन रेखा है। उन्होंने कहा कि भूमि अधिग्रहण और मुआवजे के मुद्दों को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए। उन्होंने मुख्यमंत्री से शिलाई विधानसभा क्षेत्र के लिए नाबार्ड के तहत पर्याप्त धनराशि उपलब्ध करवाने का भी आग्रह किया। उन्होंने वन स्वीकृतियों में तेजी लाए जाने की आवश्यकता पर बल दिया ताकि विकासात्मक परियोजनाओं को शीघ्र पूर्ण किया जा सके।

अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त प्रबोध सक्सेना ने मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्यों का स्वागत करते हुए आग्रह किया कि विधायक अपने बहुमूल्य सुझाव दें ताकि उन्हें बजट में शामिल किया जा सके।

योजना सलाहकार डॉ. बासु सूद ने बैठक का संचालन किया।

ऊर्जा मंत्री सुख राम चौधरी, राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष रमेश चंद धवाला, मुख्य सचिव राम सुभग सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव निशा सिंह, आर.डी. धीमान और जे.सी. शर्मा, पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू, प्रधान सचिव आर.डी. नज़ीम, सुभाशीष पांडा और भरत खेड़ा, सचिव डॉ. अजय शर्मा, राजीव शर्मा और एस.एस. गुलेरिया ने बैठक में भाग लिया, जबकि सभी विभागाध्यक्ष, उपायुक्त और अन्य अधिकारी वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.