मुख्यमंत्री ने जयसिंहपुर विधानसभा क्षेत्र में 144 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं के शिलान्यास एवं लोकार्पण किए

जयसिंहपुर में जल शक्ति विभाग मण्डल और खण्ड चिकित्सा अधिकारी कार्यालय खोलने की घोषणा की

कांगड़ा

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कांगड़ा जिला की जयसिंहपुर विधानसभा क्षेत्र में लगभग 144 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं के शिलान्यास एवं लोकार्पण किए। इसके उपरान्त चैगान मैदान जयसिंहपुर मंे एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने जयसिंहपुर मंे जल शक्ति विभाग मण्डल और खण्ड चिकित्सा अधिकारी कार्यालय खोलने की घोषणा की।

इसके अतिरिक्त उन्होंने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पंचरूखी को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तरोन्नत करने, गांदर मंे प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने, ग्राम पंचायत लाहडू मंे पशु औषधालय स्थापित करने, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला ततेहल में विज्ञान संकाय की कक्षाएं तथा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला अंद्रेटा मंे वाणिज्य संकाय की कक्षाएं प्रारंभ करने, लोक निर्माण विभाग के जयसिंहपुर स्थित विश्राम गृह मंे चार अतिरिक्त कमरों के निर्माण और राजकीय बहुतनीकी महाविद्यालय तलवाड़ मंे दो नए ट्रेड शुरू करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि जयसिंहपुर मंे सब डिपो के स्थान पर हिमाचल राज्य पथ परिवहन निगम का डिपो शीघ्र ही खोल दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रारंभ किए गए जल जीवन मिशन के माध्यम से राज्य के प्रत्येक परिवार को नल से पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता और निरन्तर प्रयासों से हिमाचल प्रदेश इस योजना के प्रभावी क्रियान्वयन में अग्रणी राज्य के रूप मंे उभरा है। उन्होंने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार के कार्यकाल मंे इस विधानसभा क्षेत्र में एक पुल तक का निर्माण नहीं किया जा सका जबकि वर्तमान सरकार ने अपने लगभग चार वर्ष के कार्यालय मंे इस विधानसभा क्षेत्र में 6 नए पुलों का निर्माण किया है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि क्षेत्र की सड़कों के बेहतर रखरखाव और नई सड़कों व पुलों के निर्माण के दृष्टिगत प्रदेश सरकार ने जयसिंहपुर मंे लोक निर्माण विभाग का मण्डल कार्यालय खोला है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी ने देश व प्रदेश की आर्थिकी को बुरी तरह से प्रभावित किया है। इसके बावजूद प्रदेश सरकार ने हिमाचल मंे विकास की गति को बनाए रखा है। उन्हांेने कहा कि देश के लोग सौभाग्यशाली हैं कि उन्हें इस संकट काल मंे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रूप मंे एक सशक्त नेतृत्व प्राप्त है और उनके मार्गदर्शन मंे देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर अग्रणी स्वतंत्र एजेंसियों ने भी अपने सर्वेक्षणों मंे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को विश्व का सबसे लोकप्रिय नेता माना है।

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस नेताओं पर आरोप लगाया कि उन्होंने कोविड-19 महामारी जैसे संवेदनशील मामले पर भी केवल राजनीति ही की है। उन्हांेने कहा कि महामारी के दौरान कांग्रेस नेताओं ने लोगों को भ्रमित करने के अलावा कुछ नहीं किया। उन्हांेने कहा कि राज्य के कांग्रेसी नेता अपने केन्द्रीय नेतृत्व को भी भ्रमित करने से पीछे नहीं रहे और महामारी के दौरान 12 करोड़ रूपये व्यय के बिल प्रस्तुत कर दिए। उन्होंने कहा कि पहले जहां प्रदेश में केवल 50 वेंटिलेटर उपलब्ध थे, वहीं वर्तमान प्रदेश सरकार ने यह मामला प्रधानमंत्री के समक्ष उठाया और केन्द्र से तुरन्त 500 वेंटिलेटर राज्य को उपलब्ध करवाए गए और आज प्रदेश मंे एक हजार वेंटिलेटर कार्यशील हैं। इसी प्रकार प्रदेश में पहले केवल 2 आॅक्सीजन संयंत्र थे और आज 30 आॅक्सीजन संयंत्र राज्य के विभिन्न भागों मंे स्थापित किए जा चुके हैं।

जय राम ठाकुर ने चिकित्सक वर्ग, स्वास्थ्य एवं अन्य अग्रणी कार्यकर्ताओं का आभार जताते हुए कहा कि सबके सामूहिक प्रयासों से हिमाचल पात्र लक्षित आबादी को शत् प्रतिशत टीकाकारण करने वाला देश का प्रथम राज्य बना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के सुदृढ़ नेतृत्व मंे भारत स्वदेशी वैक्सीन विकसित करने में सफल रहा है। उन्हांेने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने इस मामले का भी राजनीतिकरण करने का प्रयास करते हुए इस वैक्सीन को भाजपा की वैक्सीन प्रचारित किया। उन्हांेने कहा कि विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान हमारे देश मंे चलाया गया और इसमंे भी हिमाचल अग्रणी बनकर उभरा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष के नेता पुरानी पेंशन योजना और नई पेंशन योजना के मामले में लोगों को भ्रमित करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि वीरभद्र सिंह के नेतृत्व मंे पूर्व कांग्रेस सरकार ने वर्ष-2003 मंे पुरानी पेंशन योजना को समाप्त कर प्रदेश में नई पेंशन योजना लागू की थी। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार कांग्रेस सरकार ने वर्ष-2015 मंे पुलिस विभाग के आरएण्डपी नियमों में बदलाव किया था और इससे पुलिस कर्मी कुछ लाभों से वंचित हो गए थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार इस स्थिति से भलीभांति परिचित है और इनके कल्याण के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने वृद्धावस्था पेंशन 750 रुपये से बढ़ाकर 1500 रुपये की हंै।

जय राम ठाकुर ने 73.32 लाख रुपये की लागत से निर्मित उठाऊ पेयजल आपूर्ति योजना सुगरी-दा-बाग, मण्ड सड़क पर सीआरएफ के अंतर्गत 11.22 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 175 मीटर लम्बे डबल लेन पुल, बंधाओ-बडघटा सड़क पर मोल खड्ड और कोटलु नाला पर नाबार्ड के अतंर्गत 5.80 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित पुलों, बहुतकनीकी महाविद्यालय तलवाड़ मंे 3.75 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 50 बिस्तर के छात्रावास, 3.39 करोड़ रुपये से निर्मित राजकीय महाविद्यालय जयसिंहपुर के साईंस ब्लाॅक, डंडेल गंगुई गांव के सम्पर्क मार्ग पर सुकड़ खड्ड पर नाबार्ड के अतंर्गत 2.37 करोड़ रुपये से निर्मित पुल और डलु छातर वाया काॅलेज सड़क पर अनुसूचित जाति उप योजना के अंतर्गत 1.56 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 62 मीटर लम्बे पैदल पुल का लोकार्पण किया।

मुख्यमंत्री ने जल जीवन मिशन के अतंर्गत जयसिंहपुर के लिए 2.87 करोड़ रुपये से निर्मित होने वाली उठाऊ सिंचाई योजना, कमान एरिया विकास कार्यक्रम के अतंर्गत 1.36 करोड़ रुपये की उठाऊ सिंचाई योजना बरदाम, जल जीवन मिशन मंेे कमान एरिया विकास कार्यक्रम के अंतर्गत 2.90 करोड़ रुपये की उठाऊ सिंचाई योजना जयसिंहपुर, कमान एरिया विकास कार्यक्रम के अंतर्गत 1.05 करोड़ रुपये की उठाऊ सिंचाई योजना बडाहू, 59.60 करोड़ रुपये के उठाऊ पेयजल आपूर्ति योजना अद्राणा बडां, आलमपुर, हारसी सन्धौल, टिक्करी घुमारनु, अपर लम्बागांव, हरोड करण घाट, उतरापुर, सकोह, जयसिंहपुर और जलेत भट्टी के संवर्द्धन कार्य, ताम्बरु, डगोह, जुम्मन मलाड, द्रंग, तिनबार, मुंगल राणा नगर और सरी मोलग उठाऊ पेयजल आपूर्ति योजना के 2.59 करोड़ रुपये से उन्नयन कार्य कीे आधारशिला रखी।

उन्हांेने जयसिंहपुर मंे 3.06 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियन्ता और सहायक अभियन्ता कार्यालयों, नाबार्ड के अंतर्गत 3.78 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाली बाडी वाया नडोल सम्पर्क सड़क, नाबार्ड के अंतर्गत जलेट भट्टी वाया नहालिया सम्पर्क सड़क पर 2.47 करोड़ रूपये से निर्मित होने वाले हरोटी खड्ड पुल, सीआरएफ के अंतर्गत 31.63 करोड़ रुपये से आमलमपुर-हारसीपतन सड़क के उन्नयन कार्य और 3.82 करोड़ रुपये के पंचरूखी लम्बागांव सड़क के उन्नयन कार्य की आधारशिला भी रखी।

इसके उपरान्त मुख्यमंत्री ने 13 लाख रुपये की लागत से निर्मित प्रैस क्लब भवन जयसिंहपुर का लोकार्पण भी किया। उन्होंने प्रैस क्लब जयसिंहपुर को फर्नीचर, कम्प्यूटर व अन्य आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए 5 लाख रुपये प्रदान करने की भी घोषणा की।

विधायक जयसिंहपुर रविंद्र धीमान ने मुख्यमंत्री का अपने गृह क्षेत्र में स्वागत करते हुए महामारी के समय राज्य का सफलतापूर्वक मार्गदर्शन करने के लिए उनका आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की प्रतिबद्धता और समर्पण के कारण ही राज्य ने लक्षित पात्र आयु वर्ग के शत-प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य प्राप्त किया है। उन्होंने करोड़ों रुपये की विकासात्मक परियोजनाएं समर्पित करने और लगभग 60 करोड़ रुपये की उठाऊ पेयजल योजना आद्राना बदन, आलमपुर, हारसी संधोल, टिक्केरी घूमरनू, उप्पर लंबागांव, हरोटकरण घाट, उत्तरपुर, सकोह, जयसिंहपुर और जलेत भट्टी के संवर्धन कार्य की आधारशिला रखने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया, जिससे क्षेत्र के हजारों लोगों की पेयजल समस्या का समाधान होगा।

उन्होंने क्षेत्र की विभिन्न विकासात्मक मांगों की भी विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने गत पांच वर्षों के कार्यकाल में केवल 15 करोड़ रुपये की जल शक्ति परियोजनाएं विधानसभा क्षेत्र में क्रियान्वित की, जबकि वर्तमान सरकार के कार्यकाल के दौरान 45 करोड़ रुपये की जलापूर्ति परियोजनाएं क्षेत्र के लिए स्वीकृत और कार्यान्वित की गई।

भाजपा मंडल अध्यक्ष राम रतन शर्मा ने भी मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया।

इस अवसर पर अध्यक्ष वूलफेड त्रिलोक कपूर, विधायक बैजनाथ मुल्कराज प्रेमी, विधायक देहरा होशियार सिंह, जिला भाजपा अध्यक्ष हरीदत्त शर्मा, उपायुक्त कांगड़ा डाॅ. निपुण जिंदल, पुलिस अधीक्षक खुशाल शर्मा सहित अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.