करुणामूलक आश्रितों के मामलों के लिए सरकार बनाएगी कमेटी, ओलंपिक हॉकी खिलाड़ी वरूण को 1 करोड़ के साथ मिलेगा डीएसपी का पद

टोक्यो ओलंपिक के हॉकी स्टार चंबा के वरूण को सरकार देगी 1 करोड़ राशि और DSP की नौकरी,,,सदन में उठा करुणामूलक आश्रितों का मुद्दा, मुख्य सचिव की अध्यक्षता में जल्द बनेगी कमेटी

शिमला।
टोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम में शामिल वरूण कुमार को हिमाचल सरकार एक करोड़ की प्रोत्साहन राशि देगी।इसके साथ ही उनको डीएसपी का पद भी दिया जाएगा। देश की हॉकी टीम ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया है। हॉकी टीम के इस शानदार प्रदर्शन से हिमाचल का भी मान बढ़ा है। हॉकी टीम के खिलाड़ी वरूण कुमार हिमाचल प्रदेश के चंबा जिला के डल्हौजी के मूल निवासी हैं। ऐसे में हिमाचल सरकार ने वरूण कुमार को 1 करोड़ रुपये का नकद पुरस्कार प्रदान देने के साथ ही पुलिस विभाग में डीएसपी के पद पर नियुक्ति का ऐलान किया है।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि 41 साल बाद देश को हॉकी में पदक जीता है। वरुण कुमार को 1 करोड़ दिया जाएगा। वरूण कुमार को उनकी योग्यता के अनुसार पुलिस विभाग में डीएसपी की नौकरी देने भी दी जाएगी।

हिमाचल विधानसभा में करुणामूलक आश्रितों को एकमुश्त नौकरी देने का मामला भी उठा। विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने पूछा कब तक सरकार देगी नौकरी। मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बताया कि मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन करके सभी पहलुओं को स्टडी किया जाएगा कि क्या एकमुश्त इनको नौकरी दी जा सकती हैं। कुछ मामले कोर्ट में भी चल रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा की सरकार के पास करुणामूलक मूलक आधार पर 2779 मामले लंबित है सभी विभागों को नीति के अनुरूप प्रथमिकता के आधार पर भरने के निर्देश दिए गए।

विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि करुणामूलक आश्रित लगातार सरकार से नौकरी की मांग कर रहे हैं लेकिन सरकार उनकी कोई सुनवाई नही कर रही है। मुख्यमंत्री ने सदन में कमेटी बनाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि कमेटियां मामले को लटकाने के लिए बनाई जाती है। उन्होंने मुख्यमंत्री से शीघ्र पात्रता के आधार पर नौकरी देने की मांग की।
मुकेश अग्निहोत्री ने सदन में हिमाचल पथ परिवहन निगम के अंतर्गत पेंशन भोगियों की शेष अदायगी और डीए व एरियर भुगतान का मामला उठाया और पूछा कि कब तक सरकार इनको शेष अदायगी दे देगी क्योंकि परिवहन के पेंशन भोगी सेवानिवृत्त होने के बाद वितीय लाभों के लिए सड़कों पर है जो कि बेहद शर्मनाक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.